X Close
X

वीडियोकॉन लोन मामला: धूत बोले- व्यक्तिगत संबंधों का नतीजा हमेशा क्रिमिनल एक्ट नहीं होता


39742-e144c25a-570f
Jaipur:
  • धूत बोले- दो लोगों के बीच व्यक्तिगत संबंध होने का परिणाम हमेशा क्रिमिनल एक्ट नहीं होता
  • वीडियोकॉन को 3,250 करोड़ का लोन मंजूर करने वाली समति में चंदा कोचर भी मेंबर थीं
  • वेणुगोपाल धूत ने चंदा के पति दीपक कोचर के साथ 50:50 की साझेदारी में कंपनी खोली थी

मुंबई/नई दिल्ली.आईसीआईसीआई बैंक से लोन के बदले कथित तौर पर बैंक की चेयरमैन चंदा कोचर के पति दीपक कोचर की कंपनी को मदद पहुंचाने के मामले में वीडियोकॉन समूह के चेयरमैन वेणुगोपाल धूत ने चुप्पी तोड़ी है। उन्होंने रविवार को एक टीवी इंटरव्यू में कहा, ‘मैं लोन मंजूर करने वाली समिति के सभी 12 सदस्यों को जानते हूं। बैंक के पूर्व चेयरमैन केवी कामत (समिति के प्रमुख) के साथ तो मैं अक्सर लंच करता रहा हूं। दो लोगों के बीच व्यक्तिगत संबंध होने का परिणाम हमेशा आपराधिक कृत्य (क्रिमिनल एक्ट) नहीं होता है।’

पुरानी दोस्ती के चलते की दीपक कोचर की मदद
- आईसीआईसीआई बैंक से कर्ज मामले में चंदा कोचर से जुड़े सवाल पर वेणुगोपाल धूत ने एक टीवी इंटरव्यू में कहा कि इसमें कुछ भी गैरकानूनी नहीं था। वे लोन मंजूर करने वाली 12 सदस्यीय समिति की एक सदस्य मात्र थीं। समिति ने वीडियोकॉन समूह का 3,250 करोड़ रुपए का लोन मंजूर किया था।’

- वीडियोकॉन समूह पर चंदा कोचर के पति दीपक कोचर की कंपनी न्यूपावर रिन्यूएबल्स में निवेश का आरोप है। इस सवाल पर धूत ने कहा कि उन्होंने पुरानी दोस्ती के चलते दीपक कोचर की कंपनी में 2.5 लाख रुपए निवेश करने पर सहमति दी थी।

अफसरों से पूछताछ
- सीबीआई की प्रारंभिक जांच (पीई) पर धूत ने कहा कि जांच एजेंसी ‘फर्जी शिकायतों’ सहित सभी आरोपों की जांच कर रही है। सीबीआई ने 2012 में वीडियोकॉन समूह को दिए गए कर्ज को लेकर आईसीआईसीआई बैंक के कुछ अधिकारियों से भी पूछताछ की है।

- जांच एजेंसी यह पता लगाने की कोशिश कर ही है कि बैंक द्वारा 2012 में वीडियोकॉन समूह को दिए 3,250 करोड़ के लोन के बदले कोई और मदद की गई। पीई में वीडियोकॉन समूह के चेयरमैन और प्रमोटर वेणुगोपाल धूत, दीपक कोचर और अन्य को नामजद किया है। सीबीआई जांच यह तय करने के लिए करती है कि यदि पर्याप्त सबूत मिलते हैं तो विस्तृत जांच की जाए। यदि उसे नियमों के उल्लंघन के सबूत मिलते हैं तो यही पीई, एफआईआर में बदल जाती है।

बैंक ने वीडियोकॉन को दिए कर्ज में से 86% एनपीए में डाले
- पिछले दिनों आई रिपोर्ट में वीडियोकॉन समूह को लोन मुहैया कराने के बदले आईसीआईसीआई बैंक की प्रमुख चंदा कोचर के पति दीपक कोचर को कथित तौर पर मदद पहुंचाने का आरोप लगाया गया है। आईसीआईसीआई बैंक ने वर्ष 2012 में वीडियोकॉन समूह को 3,250 करोड़ रुपए का लोन दिया था। इसमें से 2,810 करोड़ रुपए के कर्ज को बैंक ने पिछले साल फंसे कर्ज (एनपीए) में डाल दिया था।

बैंक का बोर्ड चंदा कोचर को दे चुका है क्लीन चिट
- आईसीआईसीआई बैंक के बोर्ड मामले में विवाद खड़ा होने पर ने पिछले दिनों चंदा कोचर को क्लीन चिट दे दी थी। बोर्ड ने कहा था कि यह कर्ज एसबीआई की अगुआई वाले 20 बैंकों के समूह द्वारा वीडियोकॉन समूह को दिए गए कुल 40,000 करोड़ रुपए के कर्ज का एक हिस्सा भर है। आईसीआईसीआई बैंक इसमें मुख्य कर्जदाता नहीं है। साथ ही कहा था कि चंदा कोचर उस समय समिति में भी नहीं थी।

 

एनआरपीएल से धूत ने क्यों दिया था इस्तीफा
- दीपक कोचर और वेणुगोपाल धूत में साठगांठ के आरोपों के बीच यह सवाल उठ रहा है कि आखिर धूत ने दीपक की कंपनी न्यूपावर रिन्यूएबल्स प्राइवेट लि. से एक माह में ही इस्तीफा क्यों दे दिया?

Medical Impact