X Close
X

कैसे मैंने अपनी बॉडी का 40% घटाया: एक ऐसे आदमी की कहानी जिसने 56 किलो घटाए


39742-e5af1c70-9d99
Jaipur:

यह कहानी है मनोज अवस्थी की - एक ऐसा आदमी जिसका वजन 40 साल की उम्र में 130 किलो था और जो लाइलाज बीमारियों के मुहाने पर खड़ा था।

मनोज को समझ आ गया था कि वो एक डाइबिटीज़ से ग्रस्त एक मोटे आदमी तरह ज़िंदगी बिताने के लिए तैयार नहीं था। उसने दूसरा रास्ता चुना।

मैं जानता था कि मुझे बहुत बड़े कदम उठाने थे। मुझे मेरा वजन सामान्य करना ही था। मैं बड़ी खराब हालत में था। मैं बड़ी मुश्किल से अपनी 112-118 सेमी की कमर पर XXXXXLपैंट की चेन लगा पाता था। जल्दी ही यह साइज़ भी छोटा पड़ने लगा। मुझे जल्दी-जल्दी बटन के काज बदलने पड़ते थे क्योंकि वे फट जाते थे।

ठीक साइज़ की XXL टी-शर्ट ढूँढना भी बहुत मुश्किल हो गया था

मेरी इस स्थिति के लिए कई कारण जिम्मेदार थे जो मेरे बचपन से संबन्धित थे।

मैं अपनी ज़िंदगी में बिना रुके कभी पूरा एक मील नहीं दौड़ा था।

2015 तक मेरा वजन 119 किलो हो गया था और मुझे शुगर होने ही वाली थी।

तब मैंने फैसला कर लिया कि मुझे मेरी ज़िंदगी बदलनी पड़ेगी। मुझे मेरी पत्नी की बहुत चिंता रहती थी, मैं उसे विधवा होते नहीं देखना चाहता था।

जैसा सब करते हैं, मैंने भी डाइट से शुरू किया।

सभी डाइट एक ही आधार पर काम करती हैं कि यदि आप जितनी कैलोरी ख़र्च करते हैं, उनसे कम खाएँगे तो आपका वजन घट जाएगा।

लेकिन किसी अनजान कारण की वज़ह से आपका वजन वापस आ जाता है बल्कि और भी बढ़ जाता है।

डाइट पर कुछ माह रहने के बाद मुझे एहसास हुआ कि सिर्फ कैलोरी घटाना पर्याप्त नहीं है। मुझे किसी और चीज की भी जरूरत थी। कोई ऐसी चीज जो ज़्यादा एक्टिव और ज़्यादा असरदार हो।

और इसलिए मैं जिम जाने लगा। लेकिन मुझे वहाँ से भी अच्छे नतीजे नहीं मिले। कितनी शारीरिक और मानसिक वेदना मुझे झेलनी पड़ी। जो चीजें मैं चाहता था उन पर ही कितने प्रतिबंध थे - और इस सब का नतीजा, वही ज़ीरो - इन सब के कारण मैं डिप्रेशन में जाने लगा था।

मैंने बहुत शराब पीनी शुरू कर दी और कड़ी मेहनत करके मैंने जितना भी वजन कम किया था वो सब वापस चढ़ा लिया, और 8 किलो अतिरिक्त और चढ़ा लिया।

यह तो साफ था कि ये सब लंबे समय तक नहीं चलेगा क्योंकि एक दिन मेरी बीवी मुझे छोड़कर चली गई, अब मुझे अपनी लड़ाई अकेले ही लड़नी थी।

मेरी नई ज़िंदगी की शुरुआत हुई एक साइकोथेरपिस्ट के साथ अपोइंटमेंट से। मैं बहुत खराब स्थिति में था: 120 किलो का पहाड़ जैसा आदमी, आंसुओं से भरा और फूला हुआ जो अपनी आँखें रूमाल से पोंछता है और रोता है कि उसकी हालत कितनी खराब है।

हाँ, मेरी समस्या मुझे मालूम थी। किसी डॉक्टर के बताए बिना भी ये तो साफ़ था कि अधिक वजन के कारण मेरी मानसिक स्थिति भी बिगड़ रही थी लेकिन मुझे मेरी समस्याओं का एक सटीक हल चाहिए था।

मुझे ये हल दिया मेरे फेवरेट डॉक्टर अखिल श्रीवास्तव ने। जी नहीं, ये कोई साईकोलॉजिकल कोर्स नहीं था। मेरी सभी समस्याओं का हल था Green Coffee

beans का एक छोटा सा डब्बा। जब मैंने ये गिफ्ट लिया तो उस समय कल्पना भीं की थी कि हर चीज इतनी सरल होगी। .

मैंने तुरंत अखिल से इस प्रोडक्ट के बारे में पूछा। संक्षिप्त में बताता हूँ: Green Coffee वजन कम करने, या ठीक बोलें तो, तेजी से चर्बी जलाने का एक नया प्रोडक्ट है। आपको इसे कड़ाई से निर्देशों के अनुसार लेना चाहिए और आपको किसी तरह की डाइटिंग करने की जरूरत नहीं है।

इसके बाद मैंने इस प्रोडक्ट के बारे में और जानकारी हासिल करना शुरू कर दिया और मुझे एक वैज्ञानिक लेख मिला जहाँ डिटेल में सब कुछ बताया गया था। मेरे अब कोई और संदेह बाकी नहीं रह गये थे।

मैंने कभी नहीं सोचा था कि वजन कम करना इतना सरल और स्वादिष्ट भी हो सकता है!

इन Green Coffee beans में मिले पदार्थ अनोखे हैं! सीएलए-एसिड्स एक शक्तिशाली प्राकृतिक एंटीऑक्सिडेंट और मोटापा नाशक. वास्तव में तो, मुझे सिर्फ यही चाहिए था।

आप Green Coffee beans को सिर्फ ऑनलाइन खरीद सकते हैं। यह प्रॉडक्ट पब्लिक सेल के लिए अभी उपलब्ध नहीं है।

खैर, मैं साइट पर गया और एक पैकेज ऑर्डर किया (मेरे डॉक्टर ने मुझे एक पहले ही दिया था) Green Coffee beans का। यह सब बड़ा आसान है क्योंकि पहले कोई पैसे नहीं देने पड़ते हैं, इससे ज़िंदगी आसान हो जाती है।

हाँ, मैं यह बताना चाहूँगा कि मैंने दूसरा पैकज खोला भी नहीं, पहले से ही काम हो गया।

मैं कुछ छुपाऊंगा नहीं, मैं हफ्ते में एक बार जॉगिंग करने जरूर जाता था - ताकि मेरी सेहत ठीक रहे (मुझे शुगर की चिंता रहती थी क्योंकि Green Coffee beans के साथ मैं जो मर्जी वो खा सकता था)

बस दो हफ्तों के बाद ही मैं नतीजे देखकर दंग रह गया - 8.3 किलो कम! मुझे तो भरोसा नहीं हो रहा था कि मेरी बॉडी में हो क्या रहा है। मैं बोरों से वजन कम कर रहा था , मेरा शरीर छोटा होता जा रहा था और मेरा फिगर मेरी आँखों के सामने सिकुड़ता जा रहा था! साँस फूलना बंद हो गया था। मैं औरतों के बीच फिर से उठने बैठने के काबिल हो गया और राज की बात बताऊंगा कि मेरी कामेच्छा कई गुना बढ़ गई! और हाँ, मैंने किसी चीज से परहेज नहीं किया!!!

इस तरीके से सिर्फ आलसी लोग ही वजन घटा सकते हैं!

एक पैकेज 3 महीने के लिए पर्याप्त था!

मैंने कपड़ों पर बहुत पैसे खर्च किए। मैं हर 2 हफ्तों में अपना साइज़ बदलता था। मैंने XXL साइज़ शर्टों से शुरू किया और अब मैं साइज़ M पहनता हूँ 

12 अप्रैल 2016 मेरा वजन 67 किलो हो गया था, डिप्रेशन के वक्त से पूरे 52 किलो कम। इस सब के लिए जिम्मेदार था, Green Coffee ।मैंने 56 किलो घटा लिए हैं .

है न जबर्दस्त?

वजन कम करने के अनुभव ने मुझे सिखाया कि मैं कुछ भी पा सकता हूँ। मैं तो खुशी से सातवें आसमान पर आ गया हूँ। मैंने अपनी ज़िंदगी में इससे ज़्यादा खुशी कभी महसूस नहीं की थी! मेरी ज़िंदगी का उद्देश्य सिर्फ अपनी शारीरिक सेहत सुधारना था जो मैंने पा लिया। मैंने बस

Green Coffee के बीज पीस कर, गुनगुने पानी में मिलाकर, हर बार खाना खाने के पहले दिन में २-३ कप पिया. अब आगे मुझे कौन सी समस्याएँ हल करनी हैं इसके बारे में मैंने अभी सोचा नहीं है।

अपने पाठकों को मैं बताना चाहता हूँ कि वजन घटाने में और देरी मत करिए क्योंकि आपको पता भी नहीं चलेगा और साल भर के अंदर 10 किलो और चढ़ जाएंगा और फिर बहुत देर हो चुकी होगी। और हाँ, Green Coffee beans से वजन घटाना इतना सरल है कि आपको पता भी नहीं चलेगा और आप "गायब" होने लगेंगे।

Medical Impact